Contributions Welcome

This blog belongs to everyone interested in preserving and promoting traditional Indian wrestling. Please feel free to contribute photos, videos, links to news articles or your own blog posts. E-mail contributions to kushtiwrestling@gmail.com.

Jan 11, 2020

Breaking News: Maharashtra Kesari Title (The Lion of Maharashtra)

By Deepak Ansuia Prasad

Happy Birthday to the President of WFI, MP Mr. Brajbhushan Saran Singh. Happy Birthday to Shamsher Pahalwan Dina Nagar

With a big cash prize, a silver mace and eligibility to apply for a decent Job in the Maharashtra government, the Maharashtra Kesari Title becomes an important kushtiwrestlnig title in the life of wrestlers of Maharshtra. People of the state call it the Olympic Games of Maharashtra. Many renowned wrestlers from Maharashtra won the title and rose to fame, including: Dadu Chaugule, Hiraman Banker, appa lall sheikh, sayed chaus, amol buchade, Chandrhaar Patil, Narsingh Yadav, Vijay Chaudhary, Balarafik and now the current champion for 2019 is Harshvrdhan Sadgir.

There were many great wrestlers in the run for the title, including Abhijit katke, Abhishek , Shailesh, Mauli Jamdade, Sachin, Balararafik and Harshad Sadgir, Shailesh Shedke.

Harshvrdhan Sadgir fought from Nasik Destrict of Maharashtra. He is a disciple of famous Olympic wrestler and Arjuna Awardi Guru Kaka Pawar. Kaka Pawar has produced many many national and interanational wrestlers for India. But this was the first time his two disciples went to the finals of Maharashtra Kesari i.e. Harshvrdhan Sadgir and Shailesh Shedke. Between them, Harsvardhan Sadgir won the title by defeating his opponent 3-1 on points.

Harsh is a great wrestlers there are many many medals in his name. He recently won a silver medal in greco-roman wrestling at the Senior National Wrestling Championship, and he also won bronze in U-23 competition. Congratulations to Harsh. Wishing him all the best for his future!


ब्रेकिंग न्यूज़ :-
भारतीय कुश्ती संघ के प्रेजिडेंट ब्रजभूषण जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ।
लाखों रूपये के इनाम , चाँदी की शानदार गुर्ज , महाराष्ट्र सरकार में नौकरी जैसे सम्मान ही महाराष्ट्र केसरी कुश्ती टाइटल की विशेषता नहीं हैं , बल्कि इसके साथ जुडी खासियत हैं पिछले सहत्तर सालों से अनवरत चलता आ रहा यह टाइटल महाराष्ट्र सरकार से भी स्वीकृत हैं। और साथ ही पूरे महाराष्ट्र में इसकी लोकप्रियता इस टाइटल को एक विशेषता प्रदान करती हैं। इसलिए इस प्रतियोगिता को महाराष्ट्र का ओलिंपिक कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।

कालांतर में महाराष्ट्र के नामचीन पहलवानो ने यह टाइटल जीता और ख्याति अर्जित की। जिनमे कुछ नाम हैं दादू चौगुले , हिरामन बनकर , अप्पा लाल शेख , सईद चाउस , अमूल बुचड़े , चन्द्रहार पाटिल , बाला रफीक , नरसिंह यादव , चन्द्रहार पाटिल , विजय चौधरी व् अन्य। इन पहलवानो ने देश दुनिया में भी वृहद् ख्याति अर्जित की।

इस बार के महाराष्ट्र केसरी टाइटल में भी बहुत से नामचीन पहलवानो ने भाग लिया। जिनमे मुख्यतया अभिजीत कटके , अभिषेक , शैलेश , मौली , सचिन , बाला रफीक , हर्षद , शैलेश इत्यादि। हालाँकि महाराष्ट्र के एक नामचीन पहलवान किरण भगत की गैर हाजिरी जरूर दर्शकों को खली होगी।

इस बार 3 -1 से जीतकर महाराष्ट्र केसरी बने हर्षवर्धन सदगिर , भारतीय कुश्ती जगत में हर्ष उभरते हुए पहलवान हैं। उन्होंने इस बार राष्ट्रिय कुश्ती प्रतियोगिता के ग्रीको रोमन में रजत पदक जीता साथ ही अंडर 23 में भी ब्रोंज मैडल लिया , और भी कई छोटे बड़े पदक और कई नामचीन कुश्तियों में जीत उनके नाम हैं। पहलवान को ढेरों बधाइयां। हर्ष ओलिंपियन पहलवान व् अर्जुन पुरष्कार विजेता काका पवार के शिष्य हैं। जिन्होंने देश को कई राष्ट्रिय व् अंतर्राष्ट्रीय पहलवान दिए हैं। ये पहली बार हैं जब महारष्ट्र केसरी की गदा उनके अखाड़े में आई हैं। और पहली बार उनके दो शिष्य इस स्पर्धा के फाइनल में पहुंचे। महारष्ट्र केसरी के रनर अप रहे पहलवान शैलेश शेडके को भी बहुत बहुत बधाई। इन पहलवानो के गुरु काका पवार जी का हार्दिक अभिनन्दन।