Contributions Welcome

This blog belongs to everyone interested in preserving and promoting traditional Indian wrestling. Please feel free to contribute photos, videos, links to news articles or your own blog posts. E-mail contributions to kushtiwrestling@gmail.com.

Mar 26, 2021

Anuj Garhwali Vs Netrpal Pahalwan

 

This is a kushti wrestling bout of my son Anuj Garhwali, he is in red. His fellow wrestler held the camera, which is moving all around , however he managed to capture the bout as a whole. His opponent was heavy and stout, who fought well too. The match however went for not more than 5 minutes, when the referees stopped it declaring a tie. In the end you can watch anuj requesting the referees to extend the time of the bout, but they didn't.

Mar 4, 2021

Anuj Garhwali Training at Guru Jasram Akhara

In the first week of march , I returned to Delhi. Anuj Garhwali my son is practicing at Guru Jasram Akhada, New Delhi. I accompanied him, to see how he is doing. I made these videos for my friends so that they can also watch his progress, here is the video.   


Jan 16, 2021

Happy New year Dangal - 2021

By Deepak Ansuia Prasad

1st Jan, 2021
Village Bansuli, near Jaigaon crossing, via Kandakhal , Paukhal, Dugadda Block, Destrict Pauri Gadhwal, Uttrakhand, India

नए साल का दंगल। १ जनवरी , 2021 , ग्राम बांसुली अखाडा , जय गाँव क्रॉसिंग , वाया कांडाखाल , पौखाल , दुगड्डा ब्लॉक , पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड , इंडिया।

 

 

This is the Akhada (wrestling practice arena in the earth) we made in the COVID-19 lockdown when I reached home. Digging deep, clearing pebbles, churning mud, mixing with turmeric and oil, etc. was done. A few children started coming here to learn wrestling too. The tradition of wrestling is not so popular here. I know that a wrestling event will always motivate and encourage children to come forward and play traditional wrestling. Hence, an event of wrestling was much needed here. That is why I decided to organize one more wrestling competition for the sake of promoting the art of traditional wrestling, here in my village. 

 लोक् डाउन में हमने गाँव पहुँच कर बेहतरीन अखाडा बनाया। जिसमे मिटटी को खोदना , छानना , हल्दी तेल मिलाकर अखाडा बनाना शामिल था। अखाड़े का निर्माण कार्य और फिर एक दंगल भी , बच्चों को खेलों की तरफ आकर्षित करने का एक बेहतरीन प्रयास रहा। मैं तो कुश्ती खेल ही सीखा सकता हूँ इसलिए चाहता हूँ की बच्चे कुश्ती खेल की तरफ आकर्षित हों। इसीलिए नव वर्ष पर भी एक कुश्ती दंगल का आयोजन रखा।  




Anuj my son, the wrestler, to whom we call Anuj Garhwali too. I suffixed Garhwali, after his name because our State is also popularly known as Garhwal, which means highland, and we are called Garhwalis or highlanders. Anuj fights in traditional wrestling competitions all over India, with this name, Anuj Gadhwali. We aim to give a good name to the place we belong to. 

Anuj came all the way from Delhi to Uttrakhand to participate in the tournament. He helped me too, in managing the competition, and fought well with every participant, pinning everybody. It was easy matches for him, but he did it to let the children feel and understand how wrestling is played down in the countryside. He was praised and hailed by people watching there. 

Everybody was proud of him for he is making a name for their village around the country. Anuj also motivated children here to take wrestling as a sport and assured them to be with them regularly, so that they can learn well too. Sh. Matbar Singh Bisht ji, the chief guest of the event felt very proud of him and gave his blessings to Anuj.
अनुज पहलवान मेरा बेटा हैं। उसका पहलवानी में हमने अनुज गढ़वाली रखा हैं। गढ़वाली होने के नाते ताकि उत्तराखंड के बच्चे भी पहलवानी की और आएं। और साथ साथ अपने उत्तराखंड का नाम भी खेलों से जुड़े। इस दंगल के लिए अनुज दिल्ली से आया , उसने मेरी मदद भी की। दंगल में जितने भी बच्चे आये उनकी , सबकी कुश्ती अनुज से कराई। हालाँकि अनुज ने उन्हें हरा दिया लेकिन उन बच्चों के लिए एक पहलवान से खेलने का अनुभव उन्हें जरूर प्रेरित करेगा। और वे पहलवानी के बारे में समझेंगे ऐसा मेरा मानना हैं। दंगल में आये लोगों ने पूरे देश में गढ़वाल का नाम ऊँचा करने पर अनुज की प्रशंशा की। दंगल के मुख्य अतिथि ने कहा की उन्हें गर्व हैं की अनुज जैसा पहलवान उनके क्षेत्र से आता हैं। उन्होंने अनुज को ढेरों आशीर्वाद दिए। 

This year the famous yearly fete of "Gindi Mela" or the ball game, celebrating the Makar Sankranti Festival was canceled due to fear of the Covid19 epidemic. This is also the reason I didn't invite wrestlers from outside Uttrakhand. The govt also has banned people from outside gathering in Uttrakhand on new Year's day. Hence celebrating outside in the open was canceled all over Uttrakhand. 

However, The Dangal event came as a respite for fun-seeking, guys who need entertainment. Men, women, and children in sizable numbers came to watch the event. There was a good treat of tea, samosa, Jalebi, pakoda, biscuits, etc. too. Munching, snacks sipping tea, and watching kushti was a great time pass and entertainment on the warm sunny day of the winter. People liked the idea very much thanked us a lot. 

हमारे क्षेत्र में होने वाला गेंद का मेला , इस बार कोरोना की वजह से कैंसिल हो गया। उत्तराखंड सरकार ने खुले में पार्टी या आयोजन पर रोक लगा रखी हैं। इसीलिए मैंने अन्य राज्यों से पहलवान नहीं बुलाये। और गाँव के बच्चों को लेकर ही दंगल का आयोजन किया। लेकिन दंगल में आये लोगों के लिए कुश्ती दंगल का ये मेला एक नया अनुभव था। सर्दियों की धुप में चाय पकोड़ा , समोसा , जलेबी के साथ कुश्ती देखना एक मजेदार अनुभव रहा और मनोरंजक भी। दर्शकों ने इस आयोजन को बहुत पसंद किया और कहा की ऐसे दंगल होने चाहिए।
The traditional band, for entertainment and fun, the local band from Bagi - Badi village played music and drums. It was really fun, and entertainment, the villagers danced and sang after the dangal finished. It was fun to watch the celebrating people of the village 

 गाँव का बैंड बच्चों के उत्साह वर्धन के लिए गाँव का बंद , लोकल धुन बजा रहा था। जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया। दंगल के बाद जवान बहुत नाचे। और जमकर नया साल मनाया भी। 

We thanked Matbar Singh Bisht ji, for his social service, he was instrumental in bringing roads to our village and nearby villages, he also brought many developments works to the village and have been tirelessly working for the benefit of society. He was felicitated with garlands of currency as a mark of respect. all the special invitees, village pradhans, senior persons of the area were also welcomed with garlands. Cash prizes was given to wrestlers even the lost ones were also given consolation cash prizes to motivate children to take sporting activities. 

 हम सबने गाँव के समाज सेवी मातबर सिंह बिष्ट जी का नोटों की माला से स्वागत किया। उन्होंने बागी , गौला , खुलकन्दी , कठूड , बांसुली , जयगाव , डबरा जैसे आस पास के गाँवों में सड़क लाने का प्रबंध किया। वे हमेशा ही अपने क्षेत्र के विकास के लिए प्रयास रत रहते हैं। गाँव के ऐसे सच्चे सपूत को दंगल में आये सभी लोगों ने धन्यवाद किया। मातबर जी ने दंगल करवाने के लिए बांसुली गाँव वासियों को भूरी भूरी प्रशंशा की। दंगल में आये विशिष्ट अतिथियों व् ग्राम प्रधानों का फूलमालाओं से स्वागत किया गया।

Jan 19, 2020

Kushtiwrestling Breaking News

By Deepak Ansuia Prasad
13th Jan, 2020
Happy Birthday to Rustam Pahalwan Kamaljeet Doomchedi. Kamaljeet remained an all time favourite of the Kushtiwrestling Fans. Manjeet Khatree defeats Iranian wrestler. Manish Gujjar defeats Iranian wrestler. Sunil Zirakpur wins a great match. The great celebrity wrestler Jassa Patti's video of performing 6 reps of 200kg Hip Thrusts goes viral, Jatin Guru Jasram wins a great match, Chotu Pahalwan wins Jila Kesari Title, Shaad Pahalwan mansuri wins from Shuham Pahalwan, Sahil Pahalwa wins a match Delhi state Cadets championship 2020. and more news of Gurdwara Lambeyan Sahib JI, Sec. 46, Chandigarh.
देशी कुश्ती के रुस्तम पहलवान कमलजीत डूमछेड़ी को जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ। मंजीत और मनीष गुज्जर पहलवान ने हराया ईरानी पहलवानो को। जस्सा पट्टी पहलवान की दो सौ किलो की वर्जिश मारते हुए वीडियो हुई वायरल। जतिन गुज्जर , गुरु जसराम ने लखनऊ में जीता शानदार मैच। छोटू पहलवान झाँसी बने जिला केसरी। शाद पहलवान मंसूरी ने हराया शुभम पहलवान। दिल्ली में हुई कैडेट कुश्ती में जीते साहिल पहलवान। हर साल की तरह गुरुद्वारा लंबयान साहिब में हुआ शानदार दंगल। गुरुद्वारे प्रबंधक कमेटी को बहुत बहुत शुभकामनाएं।
Thanks,
Pahalwan ji

https://youtu.be/NpN60kf720c

Jan 11, 2020

Breaking News: Maharashtra Kesari Title (The Lion of Maharashtra)

By Deepak Ansuia Prasad

Happy Birthday to the President of WFI, MP Mr. Brajbhushan Saran Singh. Happy Birthday to Shamsher Pahalwan Dina Nagar

With a big cash prize, a silver mace and eligibility to apply for a decent Job in the Maharashtra government, the Maharashtra Kesari Title becomes an important kushtiwrestlnig title in the life of wrestlers of Maharshtra. People of the state call it the Olympic Games of Maharashtra. Many renowned wrestlers from Maharashtra won the title and rose to fame, including: Dadu Chaugule, Hiraman Banker, appa lall sheikh, sayed chaus, amol buchade, Chandrhaar Patil, Narsingh Yadav, Vijay Chaudhary, Balarafik and now the current champion for 2019 is Harshvrdhan Sadgir.

There were many great wrestlers in the run for the title, including Abhijit katke, Abhishek , Shailesh, Mauli Jamdade, Sachin, Balararafik and Harshad Sadgir, Shailesh Shedke.

Harshvrdhan Sadgir fought from Nasik Destrict of Maharashtra. He is a disciple of famous Olympic wrestler and Arjuna Awardi Guru Kaka Pawar. Kaka Pawar has produced many many national and interanational wrestlers for India. But this was the first time his two disciples went to the finals of Maharashtra Kesari i.e. Harshvrdhan Sadgir and Shailesh Shedke. Between them, Harsvardhan Sadgir won the title by defeating his opponent 3-1 on points.

Harsh is a great wrestlers there are many many medals in his name. He recently won a silver medal in greco-roman wrestling at the Senior National Wrestling Championship, and he also won bronze in U-23 competition. Congratulations to Harsh. Wishing him all the best for his future!


ब्रेकिंग न्यूज़ :-
भारतीय कुश्ती संघ के प्रेजिडेंट ब्रजभूषण जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ।
लाखों रूपये के इनाम , चाँदी की शानदार गुर्ज , महाराष्ट्र सरकार में नौकरी जैसे सम्मान ही महाराष्ट्र केसरी कुश्ती टाइटल की विशेषता नहीं हैं , बल्कि इसके साथ जुडी खासियत हैं पिछले सहत्तर सालों से अनवरत चलता आ रहा यह टाइटल महाराष्ट्र सरकार से भी स्वीकृत हैं। और साथ ही पूरे महाराष्ट्र में इसकी लोकप्रियता इस टाइटल को एक विशेषता प्रदान करती हैं। इसलिए इस प्रतियोगिता को महाराष्ट्र का ओलिंपिक कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।

कालांतर में महाराष्ट्र के नामचीन पहलवानो ने यह टाइटल जीता और ख्याति अर्जित की। जिनमे कुछ नाम हैं दादू चौगुले , हिरामन बनकर , अप्पा लाल शेख , सईद चाउस , अमूल बुचड़े , चन्द्रहार पाटिल , बाला रफीक , नरसिंह यादव , चन्द्रहार पाटिल , विजय चौधरी व् अन्य। इन पहलवानो ने देश दुनिया में भी वृहद् ख्याति अर्जित की।

इस बार के महाराष्ट्र केसरी टाइटल में भी बहुत से नामचीन पहलवानो ने भाग लिया। जिनमे मुख्यतया अभिजीत कटके , अभिषेक , शैलेश , मौली , सचिन , बाला रफीक , हर्षद , शैलेश इत्यादि। हालाँकि महाराष्ट्र के एक नामचीन पहलवान किरण भगत की गैर हाजिरी जरूर दर्शकों को खली होगी।

इस बार 3 -1 से जीतकर महाराष्ट्र केसरी बने हर्षवर्धन सदगिर , भारतीय कुश्ती जगत में हर्ष उभरते हुए पहलवान हैं। उन्होंने इस बार राष्ट्रिय कुश्ती प्रतियोगिता के ग्रीको रोमन में रजत पदक जीता साथ ही अंडर 23 में भी ब्रोंज मैडल लिया , और भी कई छोटे बड़े पदक और कई नामचीन कुश्तियों में जीत उनके नाम हैं। पहलवान को ढेरों बधाइयां। हर्ष ओलिंपियन पहलवान व् अर्जुन पुरष्कार विजेता काका पवार के शिष्य हैं। जिन्होंने देश को कई राष्ट्रिय व् अंतर्राष्ट्रीय पहलवान दिए हैं। ये पहली बार हैं जब महारष्ट्र केसरी की गदा उनके अखाड़े में आई हैं। और पहली बार उनके दो शिष्य इस स्पर्धा के फाइनल में पहुंचे। महारष्ट्र केसरी के रनर अप रहे पहलवान शैलेश शेडके को भी बहुत बहुत बधाई। इन पहलवानो के गुरु काका पवार जी का हार्दिक अभिनन्दन।